रामपाल दो केस में बरी पर अभी नहीं आयेंगे जे ल से बाहर, जानें वजह !

हरियाणा के बरवाला स्थित सतलोक आश्रम संचालक रामपाल के खिलाफ दो केसों में सुनवाई के बाद हिसार कोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया है. FIR नंबर 426 और 427 के तहत दर्ज केस पर जज मुकेश कुमार सुनवाई के बाद उन्हें बरी कर दिया. हिसार सेंट्रल जेल नंबर-1 से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रामपाल ने इस कार्यवाही में हिस्सा लिया. इस फैसले के मद्देनजर हिसार में धारा 144 लागू कर दी गई थी. सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किेए गए थे. हिसार शहर की सीमाएं सील कर दी गई थीं.

इन धाराओं में मुकदमा हुआ था दर्ज

रामपाल के खिलाफ दर्ज FIR नंबर 201, 426, 427 और 443 के तहत पेशी हुई थी. कोर्ट ने FIR नंबर 426 और 427 का फैसला सुरक्षित रख लिया था. रामपाल पर FIR नंबर 426 में सरकारी कार्य में बाधा डालने और 427 में आश्रम में जबरन लोगों को बंधक बनाने का केस दर्ज है. FIR नंबर 426 IPC की धारा 323 (1 साल कैद), धारा 353 (3 साल कैद), धारा 186 (3 साल कैद) और धारा 426 (3 माह कैद) के तहत दर्ज है. वहीं, FIR नंबर 427 धारा 147 (1 साल कैद), धारा 149, धारा 188 और धारा 342 के तहत दर्ज है.