Daily Archive: June 12, 2017

चुनाव आयोग को अवमानना करने वालों पर कार्र वाई का अधिकार दिया जा सकता है : पीपी चौधरी

चुनाव आयोग को अवमानना करने वालों पर कार्रवाई का अधिकार दिया जा सकता है : पीपी चौधरी

नई दिल्ली : ईवीएम मुद्दे पर राजनीतिक दलों के निशाने पर आया चुनाव आयोग काफी खफा है. चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर कहा है कि उसे बेकार में बदनाम करने वालों पर कार्रवाई का अधिकार दिया जाए. आयोग की दलील है कि इसके चलते वो आधारहीन आरोपों के खिलाफ एक्शन ले सकते हैं. जानकारी के मुताबिक कानून मंत्रालय को पत्र लिखकर अदालत की अवमानना कानून में संशोधन की मांग इलेक्शन कमीशन ने की है. उधर चुनाव आयोग की मांग पर प्रतिक्रिया देते हुए कानून राज्य मंत्री पीपी चौधरी ने पत्रकार से बातचीत में कहा कि "हमारे सामने जब भी EC की चिट्ठी रखी जायेगी तो सरकार चुनाव आयोग की मांगों पर विचार करेगी." पीपी चौधरी ने साथ ही ये भी कहा कि चुनाव आयोग की अपनी एक विश्वसनीयता है और पूरे देश ही नहीं विश्व में हमारे चुनाव आयोग की एक बेहतरीन छवि है और अगर उस पर कोई अनर्गल सवाल उठाता है तो वो ठीक नहीं है. संविधान के दायरे में चुनाव आयोग ने जो चिट्ठी लिखी है उस पर अगर कोई कानून बन सकता है तो केंद्र सरकार और कानून मंत्रालय जरूर विचार करेगी. मंत्रालय EC की चिट्ठी को examine करेगी और संविधान के दायरे में रहते हुए उसकी मांग पर विचार करेगी. पर आम आदमी पार्टी और दूसरी पार्टी ने जो इस संविधानिक संस्था पर सवाल उठाए हैं वो सरासर गलत है!

आपको बात दें कि पिछले दिनों हुए विधानसभा चुनावों के बाद ईवीएम पर सवाल उठे थे और राजनीतिक दलों को आयोग ने साफ किया था कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ और हैकिंग संभव नहीं है. आयोग ने इसके लिए राजनीतिक दलों को चुनौती भी दी थी कि वो ईवीएम को हैक करके दिखाएं लेकिन इसमें सीपीएम और एनसीपी के अलावा किसी दल ने हिम्मत नहीं दिखाई!

किसान आंदोलनों को लेकर नीतीश का मोदी पर वा र, यूपी-बिहार में अभी चुनाव कराने की दी चुनौती

किसान आंदोलनों को लेकर नीतीश का मोदी पर वार, यूपी-बिहार में अभी चुनाव कराने की दी चुनौती

पटना: बिहार सीएम नीतीश कुमार ने देश के अलग-अलग हिस्सों में चल रहे किसान आंदोलनों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नीतीश कुमार ने किसानों के लिए राष्ट्रीय नीति नहीं बनाने को लेकर मोदी सरकार की खिंचाई की। राष्ट्रपिता गांधी पर की गई टिप्प्णी के संबंध में नीतीश ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर भी निशाना साधा। नीतीश के निशाने पर कृषि मंत्री राधामोहन सिंह भी रहे जिनके गलत योग आसन का सीएम ने मजाक उड़ाया। नीतीश ने साथ ही पीएम मोदी को बिहार और यूपी में अभी चुनाव कराने की चुनौती भी दी।

सोमवार को काफी दिनों बाद नीतीश ने पीएम मोदी के खिलाफ सीधा हमला बोला। नीतीश ने कहा कि 2014 के चुनाव से पहले बीजेपी ने किसानों के मुद्दे पर तमाम वादे किए थे। नीतीश ने कहा, ‘तब मोदीजी बीजेपी के पीएम उम्मीदवार थे। उन्होंने किसानों को लेकर कई वादे किए थे। ये बातें बीजेपी के घोषणापत्र में शामिल की गई थीं।’ नीतीश कुमार ने कहा कि आज किसानों को उनकी उपज की उचित कीमत नहीं मिल रही है। बिहार सीएम ने किसानों के संकट के संबंध में राष्ट्रीय स्तर पर नीति नहीं बनाने के लिए मोदी सरकार की आलोचना की। नीतीश ने कहा कि सबसे पहले तो किसानों के लिए उत्पादन मूल्य का निर्धारण होना चाहिए। उन्होंने मंदसौर घटना और महाराष्ट्र के किसान आंदोलनों के संदर्भ में कहा कि कोई समस्या खड़ी होने पर लोन माफ कर देना जैसे उपायों से फौरी तौर पर तो राहत मिल जाएगी लेकिन कृषि संकट दूर नहीं होगा। नीतीश ने किसानों की आमदनी दोगुनी करने के मोदी सरकार के वादे का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि आज किसान की आमदनी ग्रुप डी के कर्मचारी से भी कम है। उनके लिए राष्ट्रीय स्तर पर सोच विकसित करनी होगी। नीतीश कुमार ने कहा, ‘किसान संकट का इससे बड़ा प्रमाण क्या होगा कि मराठा, जाट, पाटीदार जैसे समूह जो कभी कृषि क्षेत्र में काफी सशक्त थे आज इतने पिछड़ गए कि आरक्षण की मांग के लिए मजबूर हो गए। विभिन्न प्रांतों में लोग आज आरक्षण की मांग कर रहे हैं तो यह वाकई में किसान संकट है।’

*नीतीश ने दी चुनौती, जब चाहे करा लो चुनाव*
नीतीश कुमार ने कहा कि पिछले दिनों किसी ने बिहार में फिर से चुनाव कराने को कहा। बिहार सीएम बोले, ‘मैं बिहार में कल ही चुनाव कराने को तैयार हूं लेकिन यूपी में भी चुनाव कराइए। यूपी और बिहार के बीजेपी-एनडीए के सांसद-विधायक इस्तीफा दें। अगर हिम्मत है तो ऐसा करें, बिहार में कल ही चुनाव करा दूंगा।’