Daily Archive: May 12, 2017

Mother of @kapilmishraaap letter to @arvindkejriwal

माँ का पत्र अरविंद जी को

प्रिय अरविंद,

यह पहला और आखिरी पत्र लिख रही हूँ तुम्हे।

मेरा बेटा तुम्हारे से सवाल पूछेगा और तुम सवालों से बचोगे ऐसा कभी नही सोच था।

जब जब तुम मुझसे मिले हो तुमने हमेशा सार्वजनिक जीवन मे पारदर्शिता की बात की। हर चीज को जनता के सामने रखने की बात की।

आज मेरे बेटे पर BJP का एजेंट होने का आरोप लगा रहे हो, सोशल मीडिया में झूठी तस्वीरें तुम्हारे सबसे करीबी साथी फैला रहे है।

कल शाम को AAP के ज्यादातर वरिष्ठ नेताओं ने सोशल मीडिया पर जो तस्वीर फैलाई उस कार्यक्रम में तो तुम भी थे। तुम्हारी सारी कैबिनेट थी। कुमार विश्वास के पिताजी के सम्मान में वो कार्यक्रम था।

कितना झूठ अरविंद, आखिर कितना??

याद है जब तुम मेरे घर आये थे कि कपिल को पार्टी में लेना चाहता हूँ, चुनाव लड़वाना है कपिल मान नही रहा। वो केवल आंदोलन करना चाहता था, तब तुम आये थे मेरे पास कि कपिल की जरूरत है।

आज तुम्हारे लोग मुझे भी भ्रष्टाचारी कह रहे है। तुम चुप हो। दिल्ली की सबसे पहली मोहल्ला सभा मैंने लगाई थी। 2007 में। तुम भी तो आये थे उस मोहल्ला सभा मे, तुम्हारे सारे साथी आये थे। तब तो कोई आंदोलन या पार्टी का नामों निशान नही था। कपिल उस मोहल्ला सभा को संचालित कर रहा था।

तुम्हारी अपनी किताब स्वराज में तुमने मेरे काम करने के तरीकों को लिखा हैं । आज कहाँ से कहाँ आ गए हो तुम।

मुझे तुमने ही बताया था कि जब AAP के 28 विधायक जीत कर आये तो सबसे पहले उन्हें कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में मेरी ही मोहल्ला सभा की VIDEO दिखाई गई।

अरविंद, तुमने कपिल के साथ काम तो किया है पर शायद उसे पहचाना नहीं। वो बहुत जिद्दी है। तीन दिन से कुछ नहीं खाया उसने। मुझे गर्व है कि मैंने ऐसे बेटे को जन्म दिया।

एक माँ होने के नाते बस इतना कहना चाहती हूं कि छोटी सी जानकारी उसने मांगी है वो दे दो। वो किसी का एजेंट नही केवल सच का एजेंट है।

ये झूठ तुम्हारे किसी काम नही आएंगे, भगवान से डरना सीखों।

आशीर्वाद और स्नेह

डॉ अन्नपूर्णा मिश्रा

आजम खान के खिलाफ मुस्लिम धर्मगुरु ने जारी किया बड़ा फतवा

रामपुर : यूपी में सत्ता गंवाने के बाद समाजवादी पार्टी के वरिस्ट नेता आजम खान की मुश्किलें बढ़ने वाली है। मुस्लिम धर्मगुरु ने आजम खान के खिलाफ बड़ा फतवा जारी किया है। और इस फतवे में आजम खान के ऊपर जो इल्जाम लगे है वो काफी गंभीर है।

दरअसल शौकतनगर और आलियागंज के निकट तामीर की गई जौहर यूनिवर्सिटी के लिए शहर के अहले सुन्नत के मशहूर दारुल उलूम जामिया नईमिया के दारुल इफ्ता ने कब्रिस्तान की जमीन इस्तेमाल करने और ताकत के बल पर किसानों की जमीन सस्ते में खरीदने को लेकर फतवा जारी किया है।

तंजीम अवामे अहले सुन्नत के सदर मोहब्बे अली नईमी ने दारुल उलूम जामिया नईमिया के दारुल इफ्ता से फतवा मांगा था। आजम के खिलाफ जारी फतवे में कहा गया है कि, ‘ऐसा करना हराम है। ऐसा करने वाले खुल्लम-खुल्ला अल्लाह से तौबा करें और सताए हुए मुसलमानों से माफी मांगें। माफ न करने पर उनके हुकूक वापस करें।’

मामला था कि सींगनखेड़ा के मझरे आलियागंज और शौकतनगर के निकट तामीर की गई यूनिवर्सिटी के लिए कब्रें खोदकर सड़क बना दी गई। शौकतनगर और आलियागंज के मुसलमानों की जमीन यूनिवर्सिटी के लिए प्रशासन की ताकत के बल सस्ते में खरीदी गई। क्या ऐसा करना शरीयत के मुताबिक दुरुस्त है, ‘जबकि ऐसा कराने वाले मुसलमान ही नहीं, बल्कि अपने आपको मुसलमानों के ठेकेदार भी समझते हैं।’

फतवे का जवाब देते हुए मुफ्ती ने कहा कि, ‘मुसलमानों की कब्रों का अहतराम लाजिम और जरूरी है। उन पर चढ़ना, रोड बनाना, मकान व दुकान बनाया नाजायज व हराम है। कब्रों की तौहीन मुसलमान मुर्दों को ईजा व तकलीफ पहुंचती है। कुरान व हदीस और फिका की किताबों में इसकी वजाहत मौजूद है और जो लोग ऐसा करते हैं वह मलऊन और मरदूद हैं। ऐसे लोग सख्त अजाब-ए- इलाही के हकदार हैं।’